Goldy Brar कौन है? जिसे भारत सरकार ने घोषित किया आतंकी

Who is Goldy Brar: नए साल के दिन भारत सरकार ने सोमवार को गैंगस्टर गोल्डी बराड़ को गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत आतंकवादी घोषित कर दिया। केंद्रीय गृह मंत्रालय के अनुसार बराड़ प्रतिबंधित खालिस्तानी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल से जुड़ा हुआ है जो भारत विरोधी गतिविधियों के लिए कुख्यात है।

बता दें कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के राइट हैंड कहे जाने वाले गोल्डी को पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला (Singer Sidhu Moosewala) मर्डर केस का मास्टरमाइंड था. कहा जाता है कि गोल्डी के इशारे पर ही बिश्नोई गैंग के गुर्गों ने मूसेवाला की हत्या की थी. बता दें कि बराड़ ने बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान को भी जान से मारने की धमकी दी थी।

Goldy Brar कौन है?

गोल्डी बराड़ पहले तो लोगों का कत्ल करता है और फिर बड़े ही शान से बताता है कि ये मर्डर/कत्ल उसने ही किया है। ऐसे में आपको आतंकी के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए।

बताया जाता है कि देश का सबसे बड़ा गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई है और ये गोल्डी बराड़ उसका सबसे खास दोस्त है। यहीं नहीं इस शख्स को बिश्नोई गैंग का सबसे भरोसेमंद आदमी भी कहा जाता है। बराड़ वो शख्स है जो बिश्नोई गैंग को विदेशों में भी फैला रहा है और देश में अपराध करके दहशत फैला रहा है।

आपको बता दे कि लॉरेंस बिश्नोई जेल में है, लेकिन लॉरेंस का ये सबसे खास आदमी सात समंदर पार से हत्याएं करवा के भी खुली हवा में घूम रहा है और इसी के जरिए लॉरेंस सारे काम करवा रहा है।

Goldy Brar

Goldy Brar कैसे बना क्रिमिनल?

गोल्डी बराड़ का जन्म साल 1994 में हुआ था और इसका घर पंजाब के श्री मुक्तसर साहिब पर था। हालांकि आतंकी अब देश में नहीं रहता है, लेकिन अपराध करके लोगों के बीच दहशत फैलता है।

बताया जाता है कि गोल्डी के पिता पुलिस में सब इंस्पेक्टर थे, वह बेटे को पढ़ा लिखा कर काबिल बनना चाहते थे। लेकिन सतविंदर उर्फ गोल्डी ने अपनी अलग ही राह चुन ली। दरअसल, गोल्डी के चचेरे भाई गुरलाल बराड़ की हत्या हो जाती है और इस हत्या का बदला लेने के लिए गोल्डी क्राइम का रास्ता चुन लेता है।

आपको बता दे कि गोल्डी गैंगस्टर्स के संपर्क में आता है इस दौरान, उसकी जग्गू भगवानपुरिया और लॉरेंस बिश्नोई से भी मुलाकात होती है और फिर गोल्डी अपने भाई के कत्ल के आरोपी कांग्रेस नेता गुरलाल पहलवान की हत्या करवा देता है।

नेता की हत्या के बाद गोल्डी स्टूडेंट वीजा पर कनाडा भाग जाता है. इसके बाद ये कनाडा से ही लॉरेंस बिश्नोई गैंग के लिए काम करता है. कनाडा में बिश्नोई गैंग के तार फैलाना, पाकिस्तान में डीलिंग करवाना, मॉडर्न हथियारों की सप्लाई ये सारे काम गोल्डी ही देखता है।

कट्टरपंथी विचारधारा का समर्थक है बराड़

गृह मंत्रालय की नोटिफिकेशन में कहा गया है कि गोल्डी बराड़ को एक क्रॉस बॉर्डर एजेंसी की ओर से समर्थन है। वह कई हत्याओं में शामिल रहा है और कट्टरपंथी विचारधारा का समर्थक है। इसके साथ ही उसने कई राष्ट्रवादी नेताओं को कॉल करके धमकियां दी हैं और उनसे फिरौती की मांग भी की है।

सीमा पार से करता रहा है हथियार तस्करी

गोल्डी बराड़ विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर हत्याओं के दावे भी करता रहा है। वह ड्रोन्स के जरिए सीमा पार से हाई ग्रेड हथियारों, एम्युनिशन और विस्फोटक पदार्थों की तस्करी में भी संलिप्त रहा है। इन हथियारों का इस्तेमाल हत्याएं करने में और शार्पशूटर्स को सप्लाई करने में किया जाता रहा है।

पंजाब में स्थिति बिगाड़ने की साजिशें रचीं

मंत्रालय की नोटिफिकेशन के अनुसार गोल्डी बराड़ और उसके सहयोगी पंजाब में शांति, सांप्रदायिक सद्भाव और कानून-व्यवस्था को बिगाड़ने की लगातार साजिश रचते रहे हैं। इसके लिए वह तोड़फोड़, आतंकी मॉड्यूल खड़े करने, टारगेटेड हत्याएं करने समेत कई राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को अंजाम देते रहे हैं।

फ्रांस भी जारी कर चुका रेड कॉर्नर नोटिस

बराड़ देश ही नहीं विदेश में भी वांटेड है। उसके खिलाफ फ्रांस के इंटरपोल सेक्रेटरिएट जनरल की ओर से 12 दिसंबर 2022 को एक रेड कॉर्नर नोटिस और गैरजमानती वारंट भी जारी किया जा चुका है। इसके अलावा 15 जून 2022 को बराड़ के खिलाफ एक लुकआउट सर्कुलर भी जारी किया गया था।

लॉरेंस बिश्नोई गैंग का मुख्य सदस्य है गोल्डी

हथियारों की तस्करी के कई मामलों में केंद्र और राज्य की कई एजेंसियां उसकी तलाश कर रही हैं। पंजाब पुलिस ने उसके खिलाफ कई शिकायतें दर्ज की हैं। इनमें सिद्धू मूसेवाला की हत्या का मामला भी शामिल है। उसने साल 2022 में डेरा समर्थक प्रदीप सिंह कटारिया की हत्या की जिम्मेदारी भी ली थी। साथ ही वह लॉरेंस बिश्नोई गैंग का एक प्रमुख सदस्य भी है।

यह भी पढ़ें…

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Leave a Comment